Best Electronics Offers
Motivation Self Improvement

जानिए अपने व्यक्तित्व का विकास कैसे करें| Know How to Improve your Personality?

personality development in hindi

Personality Development Reguler चलने वाली प्रक्रिया है।ज़ाहिर सी बात है परिणाम दिखने में समय लगता है और खुद को बेहतर एक दिन में नही बनाया जा सकता है

हमारा व्यक्तित्व ही हमारी छवि को लोगों के बीच प्रदर्शित करता है तथा कोई भी व्यक्ति जन्म से ही अच्छी पर्सनालिटी वाला नहीं होता है, पर्सनालिटी को विकसित किया जाता है और यदि आप अपने व्यक्तित्व पर ध्यान नहीं देते है तो यह खुद ही आपके आस-पास के माहौल के अनुसार परिवर्तित हो जाती है। बहुत बार हमने देखा है उच्च सोसाइटी में रहने वाले लोग निम्न सोसाइटी वालो से अधिक आकर्षित होते है क्योंकि उनके आस-पास का माहौल बहुत अच्छा होता है।

यदि आप स्वयं के व्यक्तित्व पर ध्यान दे और एक अच्छा इंसान बनने की कोशिश करे तो फिर आपके व्यक्तित्व को आस-पास के माहौल से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता है। बहुत से लोग पर्सनालिटी विकसित तो करना चाहते है परन्तु वो इसी उलझने मे खोए रह जाते है

1. विनम्र बने|

विनम्रता अच्छाई की मूर्ति होती है। विनम्र रहने से हर व्यक्ति आपसे बात करना पसंद करता है। यदि आप स्वयं का ही उदाहरण लेकर देखे कि कोई व्यक्ति आपसे हमेशा कठोर आवाज़ में और चेहरे पर गंभीर स्वभाव लिए बात करे तो क्या आप उसे पसंद करेंगे। इसलिए हमेशा विनम्र रहे और सदैव चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान रखे। यदि आप जीवन में दूसरों से कुछ चाहते है तो पहले स्वयं को बदले और कभी भी गुस्सा न करे, यह आपके व्यक्तित्व को अलग पहचान दिलाता है।

2. हमेशा खुश तथा सकारात्मक रहे|

हमेशा खुश रहने के लिए आवश्यकता होती है सकारात्मक सोच की, इसलिए हर चीज़ में सकारात्मक बातों को ढूंढने की कोशिश करें। हमेशा खुश रहने वाले व्यक्ति ही जीवन में सफल होते है क्योंकि अगर कोई व्यक्ति फेल होकर गिर भी गया है तो वापस उठने के लिए उसे एक नए सकारात्मक जोश और उत्साह की आवश्यकता होती है। हमेशा खुश रहना आपको किसी भी कठिन परिस्थिति में सबसे अलग बना देता है तथा आपके विरोधियों का आधा आत्मविश्वास आपकी ख़ुशी देखकर ही कम हो जाता है।

3. अपने आत्मविश्वास को बढ़ाएं|

आत्मविश्वास सफलता की पहली सीढ़ी होती है इसलिए हमेशा किसी भी कार्य को करते समय उसे पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ करें। आपके आत्मविश्वासी होने से आपके साथ कार्य करने वाले लोगों में भी आत्मविश्वास आता है। आत्मविश्वास बढ़ाने के प्रेरणादायक चीजों के बारे में पढ़े। जैसा हमने आपको ऊपर सकारात्मक सोच तथा ख़ुशी के बारे में बताया है, ये दोनों आत्मविश्वास को बढ़ाने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

4.सभी की बातों को सुने|

बहुत से व्यक्ति सिर्फ अपनी बात बोलते है तथा दुसरो को नहीं सुनते है। अगर वो लोग किसी की सुनते भी है तो सिर्फ उनकी बातों का जवाब देने के लिए। एक अच्छे व्यक्तित्व वाला इंसान वही होता है जो दूसरों की बातों को भी ध्यान पूर्वक सुने और उनका सम्मान करें। सफल व्यक्ति हमेशा बोलते कम और सुनते ज्यादा है। आप किसी भी प्रोफेशन में हो अगर आप दूसरों को ध्यान से सुनकर उनकी मदद करते है तभी आप एक अच्छे व्यक्तित्व वाले इंसान बन सकते है।

5.पढ़ना शुरू करें|

किताबें ज्ञान का भंडार होती है, और ज्ञानवान व्यक्ति की समाज में बहुत इज़्ज़त होती है। व्यक्तित्व विकास के निर्माण में किताबें महत्वपूर्ण स्थान रखती है। पढ़ने के लिए ज़रुरी नहीं है कि आप किसी पुस्तकालय में जाएं और फिर किताबें पढ़ना शुरू करें। आप इंटरनेट पर भी आर्टिकल, मैगज़ीन, पुस्तकें आदि ज्ञानवर्धक सामग्री पढ़ कर कही भी अपनी बातों का लोहा मनवा सकते है। क्योंकि जब आपके पास ज्ञान होगा तभी तो आप अपनी बात को सबसे अच्छे तरीके से रख पाएंगे।

6.माफ़ी मांगना और माफ़ करना सीखें|

जैसा हमने आपको ऊपर बताया कि व्यक्तित्व विकास के लिए विनम्रता कितनी ज्यादा ज़रुरी है। माफ़ी मांगने से आपकी विनम्रता में और अधिक निखार आता है, माफ़ी मांगने का अर्थ यह नहीं है कि किसी भी व्यक्ति के सामने हम रोना या गिड़गिड़ाना शुरू कर दे। माफ़ी मांगने का मतलब है जब आप किसी भी व्यक्ति से तनाव होने के बावजूद फिर से बात करके मामले को सुलझाएं ठीक इसी प्रकार अगर कोई आपसे माफ़ी मांगे तो उसे माफ़ कर दे तथा बीती बातों को छोड़कर आगे बढ़े।

7.नए लोगों से मिले|

नए लोगों से मिलने पर आपका सामाजिक मेल-जोल बढ़ता है तथा दूसरों के विचारों को जानने में आसानी होती है। दूसरों के विचारों को जानकर आप व्यक्तित्व को सबसे अच्छे रूप में ढाल सकते है क्योंकि आपको पता होता है कि दूसरे लोग किस तरह के व्यक्तित्व को पसंद करते है। नए लोगों से मिलने से जीवनशैली से जुड़े विषयों, संस्कृति आदि को सीखने का मौका मिलता है। जिससे जब आप पहली बार किसी से मिलते है तो उसको अपने अनुभव द्वारा फ़र्स्ट इम्प्रैशन में आकर्षित कर सकते है।

8.अपनी राय दूसरों के सामने रखें

दिए गए विषय पर अपना ज्ञान प्रदर्शन करने या उसका इतिहास बनाने की वजह अपनी राय रखें. क्योंकि विषय से जुड़ी जानकारी सभी के पास है. लेकिन आपकी राय हर कोई नहीं जानता. इसलिए विषय संबंधित अपने विचार पूर्ण सटीकता के साथ ही रखें |

9.पब्लिक स्पीकिंग सीखो |

आपके पास ज्ञान कितना भी हो लेकिन जब तक आप उसको सही ढंग से लोगों के सामने पेश करना नहीं सीखोगे तो उस ज्ञान का पूरा फायदा नहीं उठा सकते। और आपका लोगों पर प्रभाव भी नहीं पडेगा इसके लिए आपको पब्लिक स्पीकिंग भी सिखनी पडेगी।

इस कला को अवगत करने के लिए आपको भाषण प्रतियोगिता मे भाग लेना होगा और धीरे धीरे अपने आत्मविश्वास को बढाना होगा। जहापर भी आपको अपने विचार प्रकट करने का अवसर मिले तो बिना किसी डर के सबके सामने बात करे इससे आपका स्टेज डेरिंग और आत्मविश्वास भी बढेगा। अपने मित्रों के साथ भी आप इस कला का प्रयोग कर सकते हो।

10.किसी की बात बीच में ना काटे|

किसी भी व्यक्ति को अपना वक्तव्य पूरा करने दें. यदि आप उसकी बात से सहमत है तो गर्दन हिला कर या मुस्कुरा कर अपना समर्थन प्रकट कर सकते हैं. लेकिन बीच में टिप्पणी या ना करें धर्म राजनीति रंगभेद आदि से जुड़ी व्यक्तिगत टिप्पणियों से बहुत दूर रहे. क्योंकि इनका कुछ फायदा नहीं होता है.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)